शोभना सम्मान - २०१३ समारोह

शुक्रवार, 2 अगस्त 2013

सिनेमा जगत में देशभक्ति से परिपूर्ण फिल्मों की भूमिका

स्वातंत्र्यवीर सावरकर जी ने सच ही कहा है
तुजसांठी मरण ते जनन, तुजवीण जनन ते मरण!
अर्थात हे मातृभूमि! तेरे लिए मरना ही जीना है और तुझे भूल कर जीना ही मरना है!
देशभक्ति एक ऐसी भावना है जिसके बिना मनुष्य एक पशु के समान है. इसी देशप्रेम की भावना के बल पर अनेक क्रांतिकारी फाँसी के फंदे पर हँसते- हँसते झूल गए. यह देशप्रेम ही है जो सीमा पर सैनिक अपनी व अपने परिवार की चिंता छोड़कर अपनी मातृभूमि की रक्षा की खातिर रात-दिन देश की सीमा पर पड़ा रहता है और अपने कर्तव्य का पालन करता है. देश के प्रति ईमानदारीपूर्वक अपनी जिम्मेदारियों का निर्वाह करना भी देशभक्ति ही है. अनेक रचनाकारों ने देशभक्ति से ओत-प्रोत रचनाओं का निर्माण किया है, जिन्हें पढ़कर देशप्रेमियों के भीतर देशप्रेम की भावना का संचार होता है. इसी देश प्रेम की भावना को हृदय में बसाए हुए फिल्मकारों द्वारा देश भक्ति से परिपूर्ण  अनेक हिन्दी फिल्मों का निर्माण किया गया.
     
इस कड़ी में सन् 1952 में “आनन्दमठ” हिन्दी फीचर फिल्म प्रदर्शित हुई. यह फिल्म बंकिम चन्द्र चट्टोपाध्याय के प्रसिद्ध बंगाली उपन्यास “आनंद मठ” पर आधारित तथा हेमेन गुप्ता द्वारा निर्देशित एक ऐतिहासिक देशभक्ति से परिपूर्ण फिल्म है. इस फिल्म की कहानी पूर्वी भारत में हुए, मुख्यरूप से बंगाल में, सन्यासी विद्रोह पर आधारित है. इस फिल्म में पृथ्वीराज कपूर, भारत भूषण, गीता बाली, प्रदीप कुमार और अजीत ने अभिनय किया है. इस फिल्म में एक गीत है “वंदे मातरम”. इस गीत ने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान देश भक्ति की भावना जाग्रत करने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की तथा जब 1947 ई. में हमारा देश आजाद हुआ, तब यह भारत का राष्ट्रीय गीत घोषित कर दिया गया. हालाँकि भारतीय राष्ट्रीय गीत को भारतीय राष्ट्रीय गान से ज्यादा प्रभावपूर्ण माना जाता है.
      
सन् 1965 में शहीद फिल्म आई जिसका निर्देशन किया एस. राम शर्मा ने. यह फिल्म  भगत सिंह के जीवन पर आधारित है. भगत सिंह की भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका थी. उनका व्यक्तित्व आज भी भारतीय युवाओं के लिए एक प्रेरणास्रोत है. फिल्म में मुख्य कलाकार हैं मनोज कुमार, जिन्होनें भगत सिंह का किरदार निभाया है. अन्य कलाकार हैं कामिनी कौशल, प्राण, निरुपमा रॉय और प्रेम चोपड़ा इत्यादि. इस फिल्म की कहानी 20 वीं शताब्दी के आरंभिक वर्षों में ‘लोहड़ी’ त्यौहार से आरंभ होती है. गाँव के   रईस आदमी के घर लोहड़ी का आयोजन हुआ है, यहाँ किशन सिंह अपनी पत्नी व बच्चे भगत सिंह के साथ आए हुए हैं. इसी दौरान अंग्रेजों के जुल्मों से परेशान एक किसान मदद के लिए आता है. किशन सिंह का भाई अजीत सिंह मदद के लिए आगे बढ़ता है और अंग्रेजी हुकूमत के विरुद्ध ‘विद्रोह’ का आरंभ कर देता है. किशन सिंह अपने भाई को मुल्क छोड़ने के लिए कहते हैं. अजीत सिंह अपने परिवार व मित्रों को छोड़कर बाहर चले जाते हैं. बालक भगत सिंह के बाल मन में अनेक प्रश्न उठने लगते हैं, कि चाचा को देश क्यों छोड़ना पड़ा? देश पर अंग्रेजों का शासन क्यों है? इस घटना को गुज़रे हुए कई साल हो जाते हैं और फिर से  लोहड़ी का त्यौहार आता है. गाँव के एक जालिम और रसूखदार इंसान के यहाँ लोहड़ी का आयोजन किया जाता है, उस ज़ालिम इंसान के जुल्म के खिलाफ गुहार लगाने के लिये एक पीड़ित किसान गाँव वालों के बीच पहुँचता है. उस ज़ालिम व रसूखदार इंसान के अन्याय के विरुद्ध भगत सिंह आवाज उठाता है. इस प्रकार एक क्रांतिकारी का जन्म हो चुका होता है. स्वाधीनता आंदोलन के प्रत्येक हिन्दुस्तानी को जागरूक करने में ‘हिन्दुस्तान सामाजिक संगठन’ ने महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह किया था. भगत सिंह इस संगठन के एक सक्रिय सदस्य थे. यहाँ पर सुखदेव, राजगुरु, चंद्रशेखर आजाद, दुर्गा भाभी जैसे क्रांतिकारी हैं. भगत सिंह इस समूह के भीतर ‘इंकलाब जिंदाबाद’ का नारा लगाते हुए प्रवेश कर जाते हैं. फिल्म में दिखाया जाता है कि लाला लाजपत राय साईमन कमीशन के विरोध में शांतिपूर्वक जुलूस लेकर निकले हैं, भारी समर्थन के साथ यह लाहौर की सड़कों पर बढ़ रहा है. अंग्रेजी शासन इसे आगे नहीं बढ़ने देना चाहते व वे इसे रोकते हैं. लाला जी इस बात का विरोध करते हैं. पुलिस लाठीचार्जकर देती है. जिसके परिणामस्वरूप लाला जी शहीद हो जाते हैं. लाला जी की मौत का बदला लेने के लिए भगत सिंह व अन्य क्रांतिकारी एक होकर योजना बनाते हैं. क्रांतिकारी लाहौर के मुख्य पुलिस हाकिम ‘स्काट’ की हत्या की योजना बना पाते हैं. परन्तु मामूली सफलता के साथ केवल डिप्टी सांडर्स’ मारा जाता है. इस घटना के बाद पुलिस भगत सिंह व उनके साथियों को खोजने लगती है जबकि भगत सिंह भेष बदलकर अंग्रेजों की आँखों में धूल झोंककर अपने काम में सक्रिय रहते हैं.
इसी समय राजधानी दिल्ली में ‘डिफेंस ऑफ इंडिया एक्ट’ पास करने के लिए ब्रिटिश हुकूमत अपनी जिद पर अड़ी हुई है. केंद्रीय विधान सभा में भी इस पर विमर्श हो रहा है. इस बिल को पास न होने देने के लिए भगत सिंह व बटुकेश्वर दत्त असेम्बली में बम फेंक देते हैं. इस बम कांड में किसी को कोई आंच नहीं आती. दरअसल बम का फेंकने का उद्देश्य केवल सदन की कार्यवाही को भंग करना था. क्रांतिकारी बम फोड़ने के बाद ‘इंकलाब जिंदाबाद’ के नारे लगाते हैं व इस एक्ट के विरोध में छपवाए गए पर्चे सदन में फेंकते हैं. भगत सिंह व उनके साथियों पर मुकदमा चलता है. अंग्रेज भगत सिंह और सुखदेव पर हुकूमत का मुखबिर बनने के लिए दबाब डालते है. वे दोनों इस इस कार्य को करने से मना कर देते है. क्रांतिकारियों के बारे में सच्चाई जानने के लिए भगत सिंह और सुखदेव को बहुत यातनाएं दी जाती हैं, लेकिन वे अपना मुँह नहीं खोलते. फिल्म में रामप्रसाद बिस्मिल के द्वारा लिखे गीतों को स्वरबद्ध किया गया है. ‘सरफरोशी की तमन्ना’ गाने को मुहम्मद रफी व अन्य गायकों ने साथ में  बहुत सुंदर तरीके से गाया है.

सन् 1967 में मनोज कुमार द्वारा निर्देशित उपकार फिल्म प्रदर्शित हुई. यह एक राष्ट्रवादी फिल्म है. इस फिल्म के अंतर्गत प्राच्य व पाश्चात्य मूल्यों की भिन्नता को सुंदर तरीके से प्रस्तुत किया गया है. फिल्म की कहानी में राधा नाम की महिला है जिसका किरदार निभाया है कामिनी कौशल ने. उसके दो पुत्र हैं भारत व पूरण. भारत के पात्र को निभाया है मनोज कुमार ने व पूरण की भूमिका निभाई है प्रेम चोपड़ा ने. राधा एक ग्रामीण महिला है, जो अपने परिवार को खुश देखना चाहती है. उसका सपना है कि उसके बेटे भी पढ़- लिखकर बड़े आदमी बने. लेकिन उसका इतना सामर्थ्य नहीं है कि वह उनकी पढ़ाई का इतना खर्चा उठा सके. आखिर भारत अपनी इच्छाओं को तिलांजलि दे देता है और पूरण पढ़ने के लिए विदेश चला जाता है. पूरण जब अपनी पढ़ाई पूरी करके वापिस लौटता है, तो वह आराम की जिंदगी का आदी हो चुका होता है और इसके लिए वह किसी भी हद तक जा सकता है. इनके परिवार में दरार डालने का काम करता है इनके पिता का हत्यारा चरणदास. चरणदास पूरण को संपति का बँटवारा करने के लिए भड़काता है. पूरण जो स्वार्थी स्वभाव का है संपति के बँटवारे के लिए जिद पकड़ लेता है. भारत स्वेच्छा से सारी संपत्ति  को पूरण के पक्ष में छोड़कर भारत- पाकिस्तान के युद्ध में लड़ने चला जाता है. जबकि पूरण दवाओं की कालाबाजारी व तस्करी करने लग जाता है और कालाबाजारी कर ग्रामीणों को बेवकूफ बनाता है. चरणदास भारत को मारने का षड्यंत्र रचता है, लेकिन विकलांग मलंग उसको बचा लेता है. घायल मलंग को बचाने में डॉ. कविता मदद करती है. दूसरी ओर पूरण भी गिरफ्तार हो जाता है. उसको अपने द्वारा किए गलत कार्य का एहसास होता है और वह तस्करों का खात्मा करने में सरकार की मदद करता है.
 यह फिल्म देशभक्ति के भाव को सशक्त तरीके से प्रस्तुत करती है. फिल्म का संगीत कर्णप्रिय है. यदि कुल मिलाकर देखा जाए तो यह फिल्म एक सराहनीय प्रस्तुति थी.

सन् 1970 में पूरब और पश्चिम फिल्म का पदार्पण हुआ. जिसे निर्देशित किया मनोज कुमार ने. इस फिल्म में अभिनय किया मनोज कुमार, सायरा बानू, अशोक कुमार, प्राण और प्रेम चोपड़ा ने. फिल्म की कहानी में 1942 ई. में ब्रिटिश भारत में हरनाम नामक एक गद्दार ईनाम के लालच में एक स्वतंत्रता सेनानी को धोखा देता है, स्वतंत्रता सेनानी मारा जाता है और अपने पीछे छोड़ जाता है बेसहारा पत्नी गंगा व बच्चे. 1947 में भारत की आजादी के बाद स्वतंत्रता सेनानी का पुत्र बड़ा हो जाता है और उच्च शिक्षा के लिए लन्दन के लिए चला जाता है. जब वह ब्रिटेन जाता है जहाँ वह अपने पिता के कॉलेज के दोस्त शर्मा, उनकी पाश्चात्य पत्नी, बेटी प्रीति और हिप्पी बेटे से मिलता है. प्रीति पाश्चात्य संस्कृति में डूबी हुई  लड़की है, जो मिनी स्कर्ट पहनती है. धूम्रपान व शराब का सेवन करती है. उसे भारतीय मूल्यों के बारें में कोई जानकारी नहीं होती जब तक कि वह भारत से नहीं मिलती.
भारत यह देखकर आश्चर्यचकित हो जाता है, कि विदेश में कई भारतीय अपने भारतीय होने पर शर्मिंदा होते हैं और उन्होंने अपने नाम भी बदलकर अंग्रेजों की भांति रख लिये हैं. प्रीति और भारत एक दूसरे को पसंद करने लगते है. प्रीति भारत के आदर्शवाद से प्रभावित होती है उससे शादी करना चाहती है लेकिन भारत देश में रहना नहीं चाहती.
भारत चाहता है कि वह भारत देश आए और यहाँ आकर देखे कि वह किस चीज को ठुकरा रही है. हमारी भारतीय संस्कृति ऐसी हैं, जो संस्कारों से पूर्ण है और परायों को भी अपनापन देने में भी नहीं हिचकती. अंत में प्रीति भारतीयता से प्रभावित होती है और धूम्रपान करना, शराब पीना व मिनी स्कर्ट पहनना छोड़कर भारतीय संस्कृति को अपना लेती है. फिल्म के गीत ‘जब जीरो दिया मेरे भारत ने’ में अपने देश भारत की सारी खूबियों का बड़ी खूबसूरती से बखान किया गया है. सभी गाने बेहतरीन है जो भारतीय संस्कृति की सर्वोच्चता को प्रस्तुत करते है. यदि यह कहा जाए तो अतिश्योक्ति न होगी कि यदि किसी को भारतीय संस्कृति को भली-भांति समझना है तो वह इस फिल्म को देखकर समझ सकता है.

सन् 1981 में क्रांति फिल्म आई जिसका निर्देशन किया मनोज कुमार ने. इस फिल्म में अभिनय किया दिलीप कुमार, शशि कपूर, शत्रुहन सिन्हा, हेमा मालिनी, परवीन बाबी, सारिका, प्रेम चोपड़ा आदि. इस फिल्म की कहानी को लिखा जावेद अख्तर ने. यह फिल्म
1825 से 1875 ई. के बीच के स्वतंत्रता संग्राम के ऊपर आधारित है. इस कहानी के अंतर्गत दो सेनानी सांगा और भारत के संघर्ष की स्थिति को बड़े ही प्रभावपूर्ण ढंग से प्रस्तुत किया गया है. कहानी की शुरुआत रामगढ़ राज्य से होती है. यहाँ के राजा लक्ष्मण सिंह का ईमानदार और कर्तव्यनिष्ठ सिपाही सांगा है. राजा अंग्रेजों को अपने बंदरगाह को उपयोग करने की अनुमति दे देता हैं, परन्तु अंग्रेज राजा के साथ धोखा करते है और चुपचाप चोरी से सोने और आभूषण का निर्यात करते हैं व उसके बदले में गोला बारूद लाते हैं. सांगा इस पर रोक लगाता है और इस बारे में राजा को बताने जाता है, लेकिन राजा की हत्या हो चुकी होती है. सांगा पर हत्या का आरोप लग जाता है और उसे राजद्रोही घोषित कर दिया जाता है. सांगा भाग जाता है और अपनी एक अलग फ़ौज बनाता है, जिसे क्रांति का नाम देता है.
सत्ता हथियाने के पश्चात अंग्रेजों का जनता पर अत्याचार आरंभ हो जाता है. सांगा का परिवार भी उससे बिछड़ जाता है. सांगा का एक बेटा शक्ति राजमहल पहुँच जाता है और दूसरा सांगा के साथ लड़ाई में साथ देता है. बाद में शक्ति को भी अपनी सच्चाई का पता चलता है और वह भी अंग्रेजों के खिलाफ इस लड़ाई में उनके साथ हो लेता है. आखिरकार  अंग्रेजों की हार होती है. क्रांति फिल्म हमारे भारत देश की गौरवपूर्ण गाथा की कहानी है.
यह फिल्म भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का ऐसा रोमांचक प्रस्तुतिकरण करती है, कि दर्शक आश्चर्यचकित रह जाते हैं. मनोज कुमार एक अच्छे निर्देशक के साथ ही एक अच्छे अभिनेता भी हैं. सभी कलाकारों का अभिनय बेहतरीन है. इस फिल्म के सभी गाने कर्णप्रिय हैं. ‘चना जोर गरम’ , ‘क्रांति’ और ‘अब के बरस’ गाने श्रोताओं में आज भी देशभक्ति की भावना का संचार कर तन-मन में जोश भर देते है. 1980 के दशक के दौरान यह सबसे महँगी फिल्म थी तथा इस फिल्म ने सर्वाधिक आमदनी भी की. यह लगातार 67 सप्ताह तक सिनेमाघरों में चली व इसने गोल्डन जुबली भी मनाई.

बॉर्डर फिल्म सन् 1997 में आई. इसको इसे निर्देशित किया जे. पी. दत्ता ने. इस फिल्म के कलाकार हैं सन्नी देओल, जैकी श्रॉफ, सुनील शेट्टी, अक्षय खन्ना, तब्बू, कुलभूषण खरबंदा इत्यादि. फिल्म के नाम से ही अनुमान लगाया जा सकता है, कि फिल्म जंग पर आधारित है. इस फिल्म की कहानी 1971 ई. में हुए भारत पाकिस्तान के युद्ध से प्रेरित है. राजस्थान के लोनगेवाला पोस्ट पर 120 भारतीय जवान पूरी रात पाकिस्तान टैंक रेजिमेंट से  सामना करते हैं. फिल्म 1971 ई. की जंग के ऐलान से पहले के घटनाक्रम के दृश्य से आरंभ होती है, जहाँ मेजर कुलदीप सिंह को 120 जवानों के साथ लोनगेवाला पोस्ट पर भेजा जाता है. वही दूसरी तरफ मेजर  बाजवा को जैसलमेर में हवाई बेस बनाना का हुक्म मिलता है. फिल्म आगे बढ़ती है. जिसमें जवानों के परिवारों की कहानी दिखाई गई है. धर्मवीर है जल्द ही उसकी शादी होने वाली है और उसकी एक नेत्रहीन माँ है. भैरव सिंह की नई शादी हुई है. रतन सिंह के माँ-बाप उसकी राह देख रहे हैं. मथुरा दास की पत्नी बीमार है इस कारण वह छुट्टी चाहता है. कुलदीप सिंह की पत्नी उसके तबादले के लिए जोर डालती है. फिल्म भिन्न-भिन्न जगहों से आए हुए जवानों के बीच जो रिश्ते बनते है उन्हें दिखाती  है. फिल्म में युद्ध पर केंद्रित परिदृश्य को बेहतरीन तरीके से दर्शाया गया है. अच्छी पटकथा, बढ़िया संगीत फिल्म में प्रस्तुत किया गया है. ‘संदेशे आते है’ गीत में  बड़े ही सुंदर तरीके से फौजियों के मन की भावना को दर्शाया गया है वहीं ‘मेरे दुश्मन मेरे भाई’ गाना मन को भावुक कर देता है. सन्नी देओल ने अपने सशक्त अभिनय के माध्यम से इस फिल्म में ऊर्जा भर दी है. बाकी सभी कलाकारों का अभिनय भी बेहतरीन है.

सन् 2006 में रंग दे बसन्ती फिल्म प्रदर्शित हुई. इस फिल्म को निर्देशित किया राकेश ओम प्रकाश मेहरा ने. फिल्म के मुख्य कलाकार आमिर खान, सिद्धार्थ नारायण, सोहा अली खान, कुणाल कपूर, माधवन, शरमन जोशी, अतुल कुलकर्णी और ब्रिटिश अभिनेत्री एलिस पैटन हैं. फिल्म की कहानी एक ब्रिटिश वृत्तचित्र निर्माता की है जो अपने दादा की डायरी प्रविष्टियों के आधार पर भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों पर फिल्म बनाने के लिए भारत आती है. वह भारत में क्रांतिकारियों के बारे में एक वृत्तचित्र के निर्माण की मन में इच्छा  लेकर आती है. उसका उद्देश्य भगत सिंह, चन्द्रशेखर आजाद व उनके साथियों के ब्रिटिश तानाशाही के खिलाफ हुए संघर्ष के विषय में एक डॉक्युमेंट्री बनाना है. उसके पास धन की मात्रा कम होने के कारण वह यह चाहती है कि दिल्ली विश्वविद्यालय के कुछ छात्र उसकी इस फिल्म में अभिनय करें. यहाँ वह मिलती है डीजे से जो दिल्ली विश्वविद्यालय से अपनी पढ़ाई पांच साल पूर्व पूरी कर चुका है और वह सोचता है कि बाहर की दुनिया में उसके लिये कुछ नहीं रखा है. डीजे के दोस्त है करण, असलम और सुखी. करण राजनाथ सिंघानिया नाम के एक उद्योगपति का बेटा है जिसकी अपने पिता से बिल्कुल भी नहीं पटती. असलम एक मध्यम वर्गीय मुस्लिम परिवार से है. जामा मस्जिद के निकट जो गलियां है वहाँ उसका घर है. सुखी इन सब में सबसे छोटा व अपने सभी मित्रों का प्रिय है. इन सभी दोस्तों से अलग है लक्ष्मण पांडेय जो हिंदूवादी सोच का है तथा जिसे राजनीति पर बहुत विश्वास है और उसकी यह सोच है कि राजनीति से ही देश और समाज में सुधार लाया जा सकता है. लक्ष्मण की डीजे व उसके मित्रों से नहीं बनती है, जिस कारण उनमें अक्सर झगड़ा हो जाता है. डीजे और उसके साथियों की एक और मित्र है सोनिया जो कि इस समूह में इकलौती लड़की है. सोनिया की अजय, जो कि एक फाइटर पाइलट है व भारतीय वायु सेना में मिग लड़ाकू विमान उड़ाता है, से शादी होने वाली है. ये सभी युवा अपनी जिंदगी को मौज- मस्ती से बिता रहे हैं. इनके लिए देशभक्ति मात्र इतिहास की पुस्तकों में वर्णित कहानियों के समान है. अपनी फिल्म के द्वारा सू दुनिया को भारतीय क्रांतिकारियों के भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अपने बलिदान द्वारा दिए गए योगदान को प्रदर्शित करना चाहती है. कहानी में मोड़ तब आता है जब सोनिया के मंगेतर अजय का विमान गिर जाता है और उस हादसे में उसकी मौत हो जाती है. सरकार उस हादसे के लिये अजय को ही जिम्मेदार ठहराती है. सोनिया और उसके मित्र इस बात को नहीं मानते. उन्हें पूरा विश्वास है कि अजय की कोई गलती नहीं होगी बल्कि उसने कई और लोगों की जान बचाने के उद्देश्य से विमान को शहर में नहीं गिरने दिया और अपनी तरफ से सच्चाई का पता लगाने का प्रयास करते हैं. फिल्म के अंत में परिवर्तन आता है जब सच्चाई को सामने लाने के लिये ये लोग भगत सिंह व राजगुरु जैसे क्रांतिकारियों के रास्ते की ओर बढ़ जाते हैं. इस फिल्म का मुख्य भाव जागृति है. यह फिल्म अपनी मान्यताओं के विषय में नए तरीके से फिर से सोचने व उठ खड़े होने के विषय में है और यह संकेत देती है कि क्रांति की जरूरत शायद आज भी उतनी ही है, जितनी कि पहले थी. फिल्म का उपशीर्षक है अ जनरेशन अवेकन्स. इस फिल्म के प्रदर्शन होने के बाद से भारतीय युवाओं ने कई मोर्चों पर सार्थक प्रदर्शन किए. रंग दे बसंती की तरह इंडिया गेट पर मोमबती जलाकर जनता ने प्रियदर्शनी मट्टू और जेसिका लाल के केसों में अदालत के खिलाफ मोर्चा निकाला और हमारे आजाद भारत के इतिहास में शायद पहली बार इस प्रकार के शांतिप्रिय जुलूस निकाल कर उच्च न्यायालय व सरकार को इन मुकदमो को दुबारा खोलने के लिये मजबूर भी कर दिया. अभी बीते दिनों दिल्ली में हुए दामिनी रेप कांड के पश्चात विजय चौक पर एकत्र युवाओं की भीड़ को देखकर ऐसा प्रतीत हुआ, कि जैसे देश में क्रांति का शुभारंभ होनेवाला है. इस फिल्म व इसके संगीत को भी काफी सराहा गया.

   चेतन आनंद की हकीक़त, ख्वाजा अहमद अब्बास द्वारा लिखित, निर्मित व निर्देशित सात हिन्दुस्तानी, मेहुल कुमार के निर्देशन व राजकुमार एवं नाना पाटेकर के अभिनय से सजी-धजी तिरंगा, जॉन मैथ्यू के निर्देशन व नसीरुद्दीन शाह, आमिर खान तथा सोनाली बेंद्रे अभिनीत सरफ़रोश, राजकुमार संतोषी के निर्देशन और अनिल कपूर, माधुरी दीक्षित, डैनी व ओम पुरी के अभिनय की शक्ति से भरी हुई पुकार, सनी देओल, अमीषा पटेल व अमरीश पुरी के सधे हुए अभिनय एवं अनिल शर्मा के सशक्त निर्देशन में बनी ग़दर और क्रिकेट खेल के माध्यम से देशभक्ति की नई परिभाषा लिखती आशुतोष गोवारिकर द्वारा निर्देशित व आमिर खान और ग्रेसी सिंह द्वारा अभिनीत लगान इत्यादि फिल्मों के माध्यम समय-समय पर हिन्दी सिनेमा ने सिनेप्रेमियों के हृदय में देशभक्ति का अंकुर रोपा. अंततः हम कह सकते हैं जिस प्रकार शहीदों ने कुर्बानी देकर अपने देश की सेवा की एवं देश की सीमा पर व भीतर सेना व पुलिस के जवान अपने देश की तन और मन से सेवा करते हैं, उसी प्रकार कुछ फिल्मकारों ने भी समय-समय पर देश प्रेम की भावना को अपनाकर ऐसे सिनेमा का निर्माण किया, जिससे देशवासियों में मृत्यु की ओर अग्रसर देश के लिये मर-मिटने की भावना को पुनर्जन्म मिला. आजकल के धनलोलुप फिल्मकारों को देखते हुए, जो धन कमाने के लिये सिनेमा के माध्यम से अश्लीलता व फूहड़ता जनता को परोस रहे हैं, देशभक्ति पूर्ण सिनेमा निर्मित करनेवाले फ़िल्मकार साधुवाद के पात्र हैं. युवा गीतकार सुमित प्रताप सिंह के शब्दों में कहें तो, “उनका जीना क्या जीना/ जो खुद ही जीते - मरते हैं/ जो मिटते देश की खातिर/ वो मरके भी न मरते हैं”. अपने सिनेमा के माध्यम से देश की खातिर जीने वाले इन फिल्मकारों को हम देशवासियों की ओर से हार्दिक अभिनन्दन.

2 टिप्पणियाँ:

amit rana ने कहा…

Lakin aaj ki filmm deshor bhartiya saskarti ko kharb kar rahi h............bhut acchi post. H ji

संगीता तोमर Sangeeta Tomar ने कहा…

धन्यवाद.

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
Blogger द्वारा संचालित.